Bollywood

मरने से पहले हड्डियों का ढांचा रह गया था ये एक्टर, ऐसी हो गई थी हालत

बॉलीवुड और साउथ की काफी सारी फिल्मो में काम करने वाले रामी रेड्डी अपनी क्रूर एक्टिंग की वजह से काफी जाने जाते थे फिर चाहे 1993 में आई फिल्म ‘वक्त हमारा है’ में कर्नल चिकारा का रोल हो या ‘प्रतिबंध’ में अन्ना का| रामी अपनी विलन के हर किरदार को बहुत ही शानदार निभाया करते थे बता दे की रामी ने लग भाग 250 से ज्यादा फिल्मो में काम किया था और उन्हें लिवर की बिमारी ने घेर लिया था ,जिसके बाद वे अक्सर बीमार पड़ते रहते थे |

लिवर की परेशानी होने के बाद रामी अपना ज्यादातर समय घर में ही बिताया करते थे और फिर थोड़े समय बाद वे लोगो की नजरो से गायब होने लगे |रामी बहुत समय बाद एक इवेंट में नजर आये थे जहा उन्हें लोग पहचान भी मुश्किल हो रहा था |

रामी ने आंध्र प्रदेश की उस्मानिया यूनिवर्सिटी से बीसीजे (जर्नलिज्म) की डिग्री ली थी।फिल्मों में एंटर करने से पहले रामी रेड्डी जर्नलिस्ट थे। उन्होंने ‘मुंसिफ डेली’ नाम के न्यूजपेपर में नौकरी भी की थी।

1990 में रामी ने अपनी पहली तेलगू फिल्म ‘अंकुशम’ से अपने करियर की शुरुवात की थी |इनकी इस फिल्म में उनका किरदार “स्पॉट नागा ” और उनके डायलॉग बहुत फेमस भी हुए थे |

साउथ के बाद उन्हें पहली बार बॉलीवुड फिल्म ‘प्रतिबंध’ में भी काम करने का मौका मिला |फिल्म में उनका किरदार बहुत फेमस हुआ था और उसके अलावा उन्हें बॉलीवुड में भी काफी लोग जान ने लग गए थे |

रामी रेड्डी ने प्रतिबंध (1990), वक्त हमारा है (1993), ऐलान और खुद्दार (1994), अंगरक्षक और हकीकत (1995), अंगारा (1996), जीवनयुद्ध, कालिया और लोहा (1997), गुंडा, हत्यारा और चांडाल (1998), सौतेला (1999), क्रोध (2000), गलियों का बादशाह (2001) में काम किया है।

अपनी बिमारी से संघर्ष करते रामी की मोत 14 अप्रैल, 2011 को सिकंदराबाद के एक प्राइवेट अस्पताल में हुई थी |

source

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top